अपनी मिर्च का दाम ठीक नहीं मिला और बाजार से अधिक दाम में खरीदी तो खुद व्यापार करने का मन बनाया khargon news

सफलता की कहानी

एक जिला एक उत्पाद में किसान को मिर्च उद्योग लगाने में 7 लाख से अधिक का मिला अनुदान

6 माह में उद्यानिकी विभाग की पीएमएफएमई योजना का मिला लाभ उत्पादन किया शुरू

खरगोन – 2 जनवरी 23 से करीब 8 माह पूर्व महेश्वर में पिपलिया खुर्द के प्रेम टंटवारे बाजार में अपनी मिर्च बेंचने गए। मिर्च के भाव से तो वे कुछ हद तक खुश ही थे लेकिन जब उन्होंने मिर्च का पॉवडर खरीदा तो उस दाम से खासे निराश हुए। क्योंकि एक तरह से उनकी मिर्च को जब उन्होंने वापस किसी दुकान से खरीदी तो उसका अधिक दाम चुकाना पड़ा। यह बात प्रेम को खासी अखरने लगी। इस परेशानी के समय में उन्होंने खुद का व्यावसाय शुरू करने का भी मन बनाया। इसी उद्देश्य से प्रेम मई-जून 22 में उद्यानिकी विभाग में एक जिला एक उत्पाद अंतर्गत संचालित योजना से अपना खुद का उद्योग स्थापित करने के लिए पहुँचे। आज प्रेम टंटवारे अपनी मिर्च के अलावा अन्य किसानों से भी मिर्च खरीद कर पिसने की इकाई प्रारम्भ कर चुके हैं। अब प्रेमजी एक नहीं बल्कि 5-5 किस्म की मिर्च का पॉवडर बनाकर अच्छे दामों पर बेंच पा रहे हैं। 15 दिसम्बर 22 से अब तक उन्होंने 10 से 15 क्विंटल मिर्च बेंची है। उनके खरीदार न सिर्फ गांव के किसान बल्कि होटल ढाबों के अलावा आसपास के व्यापारी भी खरीदने लगे हैं।

14 लाख की मशीनें खरीदी और 7 से 8 मजदूरों को दिया रोजगार

प्रेम टंटवारे ने बताया कि सबसे पहले तो इतने कम समय मंे शासन से अनुदान प्राप्त करना बहुत बड़ी बात है। मेरे घर पर बैंक के अधिकारियों ने विजिट कर पूरी जानकारी ली। बैंक वाले संतुष्ठ हुए तो प्रकरण भी स्वीकृत हो गया। उन्हें पीएमएफएमई में कुल 26 लाख रुपये के प्रोजेक्ट में 7 लाख 18 हजार रुपये का 35 प्रतिशत अनुदान प्राप्त हुआ। यह राशि 3 प्रतिशत ब्याज छूट के साथ प्राप्त हुई है। इस राशि में उन्होंने मिक्सर मशीन और पैकेजिंग मशीन के अलावा मोटर और अन्य सामग्री खरीदी। मात्र 11वी पास प्रेम एक जिला एक उत्पाद योजना से जुड़कर अपने आपको भी सम्मानित कर रहें हैं और मिर्च के क्षेत्र में नाम कमाना चाहते है।

Leave a Comment