गंदगी में खाद्य पदार्थाे का निर्माण और फर्जी खाद्य लायसेंस नम्बर का प्रयोग करने पर एफआईआर दर्ज

खरगोन से करण चरोले की रिपोर्ट 

सम्राट सेव भंडार ने व्यावसाय करने के लिए आम लोगों के साथ छलकपट

 

खरगोन 15 अक्टूबर 22/शनिवार को शहर में सम्राट सेव भंडार पर 6 विभागों ने मिलकर बड़ी कार्यवाही की थी। रविवार को उस फर्म पर खाद्य सुरक्षा अधिकारी श्री एचएल अवास्या ने कोतवाली में एफआईआर दर्ज कराई है। खाद्य सुरक्षा अधिकारी श्री अवास्या ने बताया कि जिस स्थान पर नमकीन का निर्माण किया जा रहा था। वो अत्यन्त गन्दगीयुक्त स्थान था। साथ ही विभिन्न ब्रांड के नमकीन की पैकेजिंग भंडारण एवं विक्रय का व्यवसाय करने के लिए जिन दस्तावेजांे की आवश्यकता होती है। फर्जी तरीके से खाद्य लायसेंस नम्बर का उपयोग करना पाया गया है। थाना कोतवाली में आरोपी जगदीश प्रसाद पिता कालूराम सैनी उम्र 67 की फर्म सम्राट सेव भंडार पर भादसं 1860 की धारा 420 और 269 का अपराध दर्ज करवाया गया है। एसडीएम श्री ओमनारायण सिंह ने बताया कि गत दिवस की गई कार्यवाही में एफआईआर दर्ज कराई गई है।

फर्म संचालक द्वारा उपभोक्ताओं के साथ छलकपट, भ्रम और मिथ्यापूर्ण दस्तावेजों का उपयोग कर व्यावसाय करना समाने आया है। सम्राट सेव भंडार नूतन नगर, घाटी जीन में विभिन्न प्रकार के नमकीन का निर्माण एवं बिना ट्रेडमार्क पंजीयन के तथा फर्जी खाद्य लायसेंस नम्बर अंकित कर कई ब्रांडों के नमकीन की पैकेजिंग कर भंडारण एवं विक्रय का व्यवसाय करना पाया गया।

 

क्या हुआ था कार्यवाही के दौरान

दर्ज एफआईआर में बताया गया कि 14 अक्टूबर को दोपहर 3ः30 बजे घाटी जिनिंग स्थित फर्म का निरीक्षण विक्रेता एवं गवाहों योगेश काशीराम व राजू पिता दिनेश मंसारे की उपस्थिति में किया गया। निरीक्षण में पाया गया कि नमकीन का निर्माण अस्वच्छकर एवं अस्वस्थकर परिस्थतियों में तथा श्रमिकों का मेडिकल प्रमाण पत्र भी मौके पर प्रस्तुत नहीं किए गए। निर्माता सम्राट सेव भंडार द्वारा अलग-अलग नाम के ब्रांड जैसे सम्राट के नमकीन, सम्राट नमकीन के मिक्चर, श्री नाकोडा के नमकीन, श्री कृष्णा के नमकीन, (शाही) एवं बागड़ी नमकीन के नाम से 1 क्रिग्रा पैक्ड कर विक्रय किया जा रहा था। विभाग से खाद्य लाईसेंस वैद्य नम्बर 11422890000062 लिया गया। खाद्य पदार्थ बागड़ी नमकीन 1 क्रिग्रा पैक एवं श्री नाकोड़ा नमकीन 1 किग्रा पैक पर फर्जी खाद्य लाईसेंस नम्बर 11416890000038 डालकर आम उपभोक्ताओं के साथ छलकपट भ्रम एवं मिथ्या खाद्य लाईसेंस नम्बर डालकर नमकीन विक्रय किया जा रहा था। साथ ही सभी ब्रांडों का कोई ट्रेडमार्क का पंजीयन मौके पर प्रस्तुत नहीं किया गया।

इनका लिया गया सेम्पल

निरीक्षण के दौरान खाद्य पदार्थ पाम तेल (लूज) 2000 एमएल, सेव की मिर्च पावडर (लूज) 2000 ग्राम, लाल मिर्च पावडर (लूज) 2000 ग्राम, सम्राट के नमकीन 1 क्रिग्रा पैक, सम्राट के नमकीन मिक्चर 1 क्रिगा्र पैक, आलू चिप्स 1 क्रिग्रा पैक तथा श्री नाकोड़ा के नमकीन 1 क्रिग्रा पैक के सेम्पल लिए गए।

इन खाद्य पदार्थों पर संदेह

खाद पदार्थ संदेस्पहाप्रद श्री नाकोड़ा नमकीन, सम्राट नमकीन, आलू चिप्स, सम्राट नमकीन मिक्चर, लाल मिर्च पावडर, सेंव मिर्च पावडर को विधिवत रूप से जप्त कर विक्रेता की सुपुर्दगी में दिया गया। खाद्य कारोबारकर्ता द्वारा अस्वच्छकर एवं अस्वस्थकर परिस्थितियों में विभिन्न प्रकार के नमकीनों का निर्माण कर भंडारण व विक्रय तथा खाद्य पदार्थ बागडी नमकीन 1 किग्रा पैक एवं श्री नाकोड़ा के नमकीन 1 किग्रा पैक पर फर्जी खाद्य लाइसेंस नंबर 11416890000038 डालकर आम उपभोक्ताओं को भ्रम में रखकर कोरोबारी द्वारा आर्थिक लाभ अर्जित कर रहा था।

Leave a Comment