नेशनल लोक अदालत में पति-पत्नी के मध्य राजीनामा हुआ khargon news

जिला संवादाता करण चरोले✒️✒️

खरगोन – नेशनल लोक अदालत में 09 मार्च 2024 को पति-पत्नी के मध्य राजीनामा होने से उनके दाम्पत्य जीवन में पुनः खुशी का वातावरण निर्मित हुआ। आवेदक राजा पिता सीताराम वर्मा निवासी पिटामली तहसील महेश्वर द्वारा कुटुम्ब न्यायालय मण्डलेश्वर में अपनी पत्नी कुसमु वर्मा से विवाद होने पर उसे मायके छोडकर तलाक का आवेदन लगाया। दोनों की शादी को 13 वर्ष हो चुके है। उनका एक 10 वर्ष का पुत्र एवं एक 07 वर्ष का पुत्र है। राजा वर्मा द्वारा अपनी पत्नी द्वारा माता-पिता से झगड़ा करने, आत्महत्या करने की धमकी देती रहती थी। इससे परेशान होकर राजा ने तलाक का परिवाद प्रस्तुत किया गया। दोनो पक्षों के पारस्परिक विवाद के चलते राजा अपनी पत्नी से विगत 01 वर्ष से अलग रह रही थी। ऐसी विकट स्थिति में जिला विधिक सेवा प्राधिकरण के अध्यक्ष एवं प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश सुनील कुमार जैन के मार्गदर्शन में प्रधान न्यायाधीश कुटुम्ब न्यायालय मण्डलेश्वर मैरी मारग्रेट फ्रांसिस डेविड सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, मण्डलेश्वर नरेन्द्र पटेल द्वारा सकारात्मक पहल करते हुए दोनो पक्षों को सुलह हेतु प्रेरित किया। समझाईश के बाद दोनो पति-पत्नी ने एक दूसरे को फूल माला पहनाकर एक साथ रहने को राजी हुए और भविष्य में किसी प्रकार का विवाद नहीं करने की शपथ ली। राजीनामे में दोनो पक्षों के अधिवक्तागण एवं खण्डपीठ सदस्यगण की भूमिका सराहनीय रही। नेशनल लोक अदालत में राजीनामा होने पर प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश द्वारा उभयपक्ष को भावी जीवन की शुभकामनाए प्रेषित करते हुए उन्हें एक फलदार पौधा भेंट किया गया। इस अवसर पर विशेष न्यायाधीश शमरोज खान, सचिव जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, मण्डलेश्वर नरेन्द्र पटेल एवं खण्डपीठ सदस्यगण उपस्थित रहे।

नेशनल लोक अदालत में नियमित 473 केस हुए निराकृत, जिसमें पॉच करोड़ अड़तालीस लाख पन्द्रह हजार छह सौ इक्यासी रूपये की राशि वसूल हुई

नेशनल लोक अदालत 09 मार्च को जिला न्यायालय, मण्डलेश्वर एवं तहसील न्यायालय बड़वाह, सनावद, भीकनगांव, खरगोन, कसरावद एवं महेश्वर में आयोजित की गई। जिला न्यायालय मण्डलेश्वर हेतु प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश एवं अध्यक्ष जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, मण्डलेश्वर सुनील कुमार जैन द्वारा कुल 22 न्यायालयीन खण्डपीठें प्रकरण निराकरण हेतु गठित की गई।

जिले में नेशनल लोक अदालत में निम्नानुसार लंबित न्यायालयीन एवं विद्युत, जलकर, बैंक के प्रीलिटिगेशन प्रकरणों का निराकरण हुआ। सचिव, जिला विधिक सेवा प्राधिकरण, मण्डलेश्वर नरेन्द्र पटेल द्वारा नेशनल लोक अदालत में निराकृत हुए प्रकरणों की जानकारी बतायी गई, जिसमें न्यायालयीन प्रकरण मोटर दुर्घटना, चेक बांउस, वैवाहिक, आपराधिक प्रकरण, विद्युत एवं सिविल के राजीनामा योग्य 1638 प्रकरण रखे गये थे, जिसमें से 473 निराकृत हुए तथा वसूल हुई राशि पॉच करोड़ अड़तालीस लाख पन्द्रह हजार छह सौ इक्यासी .रूपये की वसूली हुई, जिसमें 1157 व्यक्ति लाभांवित हुए इसी प्रकार बैंक, नगर पालिका के जलकर, संपत्तिकर एव बी.एस.एन.एल. के प्रीलिटिगेशन 15006 प्रकरण रखे गये थे, जिसमें 1161 निराकृत हुए, जिनमें वसूल हुई राशि दो करोड़ अठारह लाख आठाईस हजार चार सौ दो रूपये की वसूली हुई, जिसमें 2111 व्यक्ति लांभावित हुए।

Leave a Comment