संबल योजन मे संरपंच सचिव कि जादूगरी अंतिम संस्कार मे तत्काल मिलने वाली अंत्येष्टि राशि 7 महिने बाद भी हितग्राही कि पहुच से दुर ।ग्राम भोगावं पुनासा

 खरगोन, पुनासा कि ग्राम पंचायत भोगावं 

प्रदेश सरकार ने संबल योजना के अंतर्गत प्रावधान किया है कि परिवार का भरण पोषण करने वाले की मृत्यु हो जाने पर उस परिवार को तत्काल 5000 रुपए अंत्येष्टि के लिए प्रदान किए जाएंगे। इस योजना के पीछे सरकार की मंशा है कि पीड़ित परिवार को अपने परिजन की अंत्येष्टि के लिए आर्थिक तंगी न हो। अंत्येष्टि सहायता योजना राशि ग्राम पंचायत सचिव/ झोनल अधिकारी द्वारा साक्षो के समक्ष श्रमिक के परिवार को अंत्येष्टि के समय ही या उसके तत्काल पश्चात ही बिना किसी आवेदन के नगद राशि दि जाएगी।

मुख्यमंत्री चौहान ने संबल योजना मे पात्र श्रमिक परिवार को योजना मे किसी भी तरह कि लापरवाही बरतने वाले अधिकारियों को चेतावनी भी देते हुए कहा था कि लापरवाह अफसरों को बख्शा नहीं जाएगा.उन्होंने पुलिस को भी निर्देश दिए है कि किसी भी तरह के अपराधों पर पूरी तरह से अंकुश लगाए.

 

किसके लिए है संबल योजना?

गौरतलब है कि संबल योजना राज्य के असंगठित क्षेत्र में काम करने वाले सभी मजदूरों के लिए है. मजदूर संबल कार्ड के माध्यम से केंद्र और राज्य स्तर की योजनाओं का लाभ प्राप्त करते हैं. बता दें कि संबल योजना 2018 में शिवराज सरकार द्वारा शुरू की गई थी.वहीं इसी साल संबल 2.0 योजना फिर से शुरू की गई है.मध्य प्रदेश सरकार की मुख्‍यमंत्री जन कल्‍याण (संबल 2.0) योजना का भी उद्देश्य राज्य के गरीब मजदूर वर्ग के लोगों को विभिन्न सुविधाओं का लाभ प्रदान करना है

अशिक्षित,व जानकारी के आभाव मे कई परिवार लाभ से रह जाते है वंचित

लेकिन प्रदेश सरकार कि संबल योजना अधिकारीगण कि लापरवाही के कारण श्रमिक परिवार व पात्र परिवार योजना व उसके लाभ से वंचित रह जाते है मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान कि सख्त लहजे चेतावनी देते हुए कहा था कि लापरवाह अफसरो को बख्शा नही जाएगा। इसके बावजूद कुछ प्रकरण मे तो जिम्मेदार ही हेर-फेर कर व झूठी जानकारी दर्ज कर राशि हडप ने से भी बाज नही आते ।

अंतिम संस्कार मे मिलने वाली राशि 7 माह गुजर जाने के बाद भी हितग्राही के परिवार को नही हुई प्राप्त

ग्रामीण क्षेत्रों में किसी गरीब व्यक्ति की मौत हो जाने पर सरकार की योजना अनुसार पीड़ित परिवार को अंतिम संस्कार करने के लिए पंचायत द्वारा 5 हजार रुपये की सहायता राशि देने का प्रावधान है।, इस योजना के पीछे सरकार की मंशा है कि पीड़ित परिवार को अपने परिजन की अंत्येष्टि के लिए आर्थिक तंगी न हो। लेकिन इस योजना का लाभ कई गरीब परिवारों को नहीं मिल पाता है। इस राशि के लिए पीड़ित परिवार कईबार सरपंच, सचिव और जीआरएस से राशि की मांग करते हैं, लेकिन इस राशि को पंचायत से लेने के लिए पीड़ित परिवार को पंचायत कार्यालय के काफी चक्कर लगाना पड़ रहे हैं।

ऐसा ही एक मामला शनिवार को सामने आया जब एक युवक ने अपने बड़े भाई की अंत्येष्टि राशि अब तक नहीं मिलने का शिकायती आवेदन दिया है जनपद पंचायत में दिया गया।

पुनासा जनपद पंचायत के अंतर्गत आने वाली ग्राम पंचायत भोगावा (इनपुन ) में रहने वाले विजय धोपे ने बताया कि उसके बड़े भाई धर्मेंद्र धोपे उम्र 29 वर्ष का निधन करीब 7 माह पहले शासकीय अस्पताल खंडवा में उपचार के दौरान हो गया था। लेकिन उस समय पंचायत से मिलने वाली अंत्येष्टि राशि 7 महीने गुजर जाने के बाद भी नहीं मिली।

ग्राम इनपुन निवासी विजय धोपे

(मृतक धर्मेंद्र का भाई)

अंत्येष्टि राशि के लिए आज तक पंचायत कार्यालय और सचिव के आगे पीछे भटक रहे हैं। लेकिन सचिव सिर्फ और सिर्फ आश्वासन देते नजर आ रहे हैं।

जबकि अंत्येष्टि सहायता राशि 26 जुलाई 2022 को ग्राम पंचायत को प्राप्त हो गई है। उसके बावजूद भी राशि नही मिली।और जनपद पंचायत पुनासा द्वारा स्वीकृति आदेश 19 दिसंबर 2022 को जारी हो चुका है। जिससे मुझे जनपद पंचायत का सहारा लेना पड़ा।

 

श्रमिक परिवार वालो ने कि कार्यवाही कि मांग

बड़े भाई की अंत्येष्टि सहायता राशि और संबल योजना का लाभ मिले। और गुमराहकरने वाले सरपंच/सचिव पर दंडात्मक कार्यवाही करे।

 

ग्राम पंचायत रोजगार सहायक का यह कहना है

हितग्राही की अंत्येष्टि सहायता राशि कुछ दिन पहले ही आयी है कल तक हितग्राही के परिवार को प्राप्त हो जायेगी।

सुनील विश्वकर्म रोजगार सहायक ग्राम पंचायत भोगावं

Leave a Comment