स्‍कूलों, आंगनवाडी और स्‍वास्‍थ्‍य केंद्रों पर बच्‍चों को आयरन की गोली खिलाऐं – कलेक्‍टर Ratlam news

रतलाम से संतोष तलोदिया की रिपोर्ट ✒️✒️

जिला समन्‍वय समिति की बैठक संपन्‍न

रतलाम – अनीमिया मुक्‍त भारत अभियान अंतर्गत जिला समन्‍वय समिति की बैठक कलेक्‍टोरेट सभाकक्ष में कलेक्‍टर श्री नरेन्‍द्र सूर्यवंशी की अध्‍यक्षता में संपन्‍न हुई। इस अवसर पर जिला कार्यक्रम अधिकारी श्री रजनीश सिन्‍हा, शिक्षा विभाग के अधिकारी श्री मिश्रा, डीपीएम डॉ. अजहर अली, श्री आशीष चौरसिया, विभिन्‍न ब्‍लॉक के बीएमओ, बीपीएम, बीसीएम एवं विभागीय अधिकारी कर्मचारी आदि उपस्थित र‍हे।

बैठक में कलेक्‍टर ने निर्देशित किया कि अनीमिया मुक्‍त भारत अभियान अंतर्गत तीनों विभाग मिलकर समन्वित कार्य करें। सोमवार को टी. एल. बैठक के पश्‍चात एसडीएम की अध्‍यक्षता में ब्‍लॉक स्‍तरीय समन्‍वय समिति की बैठक आयोजित कर रिर्पोटिंग एवं अनीमिक बच्‍चों को अनीमिया से मुक्‍त करने की रणनीति बनाऐं एवं प्रगति की रिपोर्ट टी. एल. बैठक में प्रस्‍तुत की जाए। बच्‍चों को अनीमिया मुक्‍त करने के लिए संवेदनशीलतापूर्वक कार्य किया जाए। डिजिटल हीमोग्‍लोबीनोमीटर से बच्‍चों की अनीमिया की स्‍क्रीनिंग की जाए । नामजद सूची तैयार कर अनीमिया से मुक्‍त हुए बच्‍चों की सूची प्रस्‍तुत की जाए।

प्रभारी सीएमएचओ डॉ. वर्षा कुरील ने बताया कि यह निरंतर चलने वाला अभियान है कार्यक्रम के अंतर्गत स्‍कूली एवं आंगवाडी केन्‍द्र के बच्‍चों को 6 माह से 59 माह तक के बच्‍चों को आयरन सीरप (आंगनवाडी केंद्रों में) , (5 से 9 साल के बच्‍चों को आयरन की गुलाबी गोली (सप्ताह में एक बार शासकीय स्कूलों में) 10 से 19 साल तक के बच्‍चों को आयरन की नीली गोली (सप्ताह में एक बार शासकीय स्कूलों में) एवं गर्भवती तथा धात्री माताओं को आयरन की लाल गोली प्रतिदिन खिलाई जाती है।

न्‍युट्रीशनल इंटरनेशनल के क्षेत्रीय समन्‍वयक श्री आशीष पुरोहित एवं एविडेंस एक्‍शन के क्षेत्रीय समन्‍वयक श्री कपिल कुमार यति ने बताया कि अनीमिया (खून में हीमोग्‍लोबीन की कमी) के कारण शरीर के अंगों को ऑक्‍सीजन नहीं मिल पाता जिसके कारण स्‍वास्‍थ्‍य समस्‍याऐं होती है। अनीमिया के लक्षणों में जल्‍दी थक जाना, सांस फुलना, जल्‍दी जल्‍दी बीमार पडना, भूख ना लगना, सुस्‍ती व नींद आते रहना, पढाई खेल व अन्‍य कामों में मन नहीं लगना, ऑखों में लालिमा की कमी (निचले पेलेब्रल कंजक्‍टिवा का पीलापन) जीभ की सूजन, पीली त्‍वचा, पैरों में सूजन, नाखूनों का सफेद एवं चपटा होना (काईलोविया) आदि मुख्‍य हैं।

अनीमिया के मुख्‍य कारण अनुवांशिक, कम आयरन वाले भोजन का सेवन, रक्‍त स्राव के कारण खून की कमी, कृमि संक्रमण, लंबे समय तक बीमार होने पर या गंभीर बीमार होने के कारण आदि हैं । अनीमिया से बचाव के लिए आयरन की गोलियों का सेवन, हरी पत्‍तेदार सब्जियों का सेवन, आहार में आयरन प्रोटीन, विटामिन सी युक्‍त, फालेट बी 12 युक्‍त आ‍हार जैसे पालक, बथुआ की भाजी, चुकंदर , गुड, तरबूज, आंवला, संतरा, टमाटर, अनार एवं मांसाहार (यदि मांसाहारी हों तो) आदि का सेवन करना चाहिए। आयरन फोलिक एसिड अनुपूरण से शारिरिक और मानसिक विकास, एकाग्रता में वृद्वि, स्‍वस्‍थ एवं चमकदार त्‍वचा तथा बाल आदि लाभ होते हैं।

Leave a Comment